Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.
    0 0

    मित्रों,भगत चा यानि शिव प्रसाद भक्त उसी आरपीएस कॉलेज,चकेयाज,महनार रोड,वैशाली में दफ्तरी हैं जहाँ से मेरे पिताजी साल २००३ में प्रधानाचार्य बनकर रिटायर हो चुके हैं.उनसे मेरा परिचय तब हुआ जब १९९२ में हमारा परिवार जगन्नाथपुर छोड़कर महनार आ गया.यह उनके व्यक्तित्व का ही जादू था कि वे बहुत जल्द हमारे परिवार का हिस्सा [...]

    0 0

    मित्रों,न्याय करना बच्चों का खेल नहीं है. इसके लिए अतिसूक्ष्म बुद्धि की आवश्यकता होती है. प्राचीन काल में कई बार राजा चुपके से वेश बदलकर घटनास्थल पर जाकर सच्चाई का पता लगाते थे. एक प्रसंग प्रस्तुत है. एक बार अकबर के पास एक मुकदमा आया जिसमें एक व्यक्ति दूसरे पर कर्ज लेकर न लौटाने के [...]

    0 0

    मित्रों,कहते हैं कि पत्रकारिता लोकतंत्र का वाच डॉग होती है. देश के बहुत सारे पत्रकार इस कहावत पर खरे भी उतरते हैं इसमें संदेह नहीं. लेकिन कुछ पत्रकार ऐसे भी हैं जो मूलतः पत्रकार हैं नहीं. वे पहरा देनेवाले कुत्ते नहीं हैं बल्कि अपने निर्धारित कर्तव्यों के विपरीत चोरों के मदद करनेवाले कुत्ते बन गए [...]

    0 0
  • 06/27/17--17:05: उपनिवेश
  • उपनिवेश ———-———- मेरा बचपन ‘टोला’ में कटा. आजकल ‘पुरा’ में रह रहा हूँ. मैं जब जीआईसी में पढ़ता था तो मित्रों से ‘कहाँ रहते हो’ मुद्दे पर बातें होती थीं. मित्र बताते…शांति कालोनी,विजय कालोनी…फ्रेण्ड्स कालोनी आदि. टोला,पुरा की तुलना में ‘कालोनी’ मुझे आकर्षित करती थी. मुझे लगता था टोला पुरातन पंथी है और कालोनी में रहना [...]

    0 0

    मित्रों, मैं वर्षों से अपने आलेखों में कहता आ रहा हूँ कि बिहार एक प्रदेश या जमीन का टुकड़ा ही नहीं, बल्कि एक मानसिकता भी है. नहीं तो क्या कारण है कि जो योजनाएं बाकी भारत में अतिसफल रहती हैं, बिहार में अतिविफल हो जाती हैं. भ्रष्टाचार तो जैसे हम बिहारियों के खून में, डीएनए [...]

    0 0

    उत्तर प्रदेश के गोरखपुर सरकारी अस्पताल में पांच दिनों के भीतर हुई 60 से अधिक बच्चों की दर्दनाक मौत हादसा नहीं हत्या है – यह बातें नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने ट्वीट कर कहा है. कैलाश सत्यार्थी ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया ट्विटर पर दी है. उन्होंने कहा है कि बिना ऑक्सीजन के [...]

    0 0

    मित्रों, हो सकता है कि आपने भी बचपन में आवेदन -प्रपत्र या फोटो सत्यापित करने के लिए किसी स्कूल या कॉलेज के प्रधानाचार्य की मुहर बनवाई होगी और खुद ही हस्ताक्षर करके काम चला लिया होगा. ऐसा करने वालों में से कुछ तो अब नौकरी में भी होंगे. लेकिन क्या आपने कभी ऐसा सुना है [...]

    0 0

    अगर समय रहते आवश्यक और उचित उपाय नहीं किया गया तो वह दिन दूर नहीं जब पीने का पानी न मिलने से और बाढ़ के पानी से मनुष्य जाति हीं सम्पूर्ण जिव-जंतु को विनाश का सामना करना पड़ेगा. जल-प्रलय होगा और धरती पर कोई नहीं बचेगा. और इस अंत का जिम्मेवार और कोई नहीं वरन बाढ़ के त्रासदी का प्रणेता स्वयं धनलोलुप मानव ही होगा.

    0 0

    कभी शीशा,कभी पत्थर,कभी दिल  को ही दे मारा, सितमगर मारना था जब,मुझे तो मार ही डाला। एक पहलवान था, युवा और बेहद ताक़तवर। एक बार उस इलाक़े के राजा ने कुश्ती का आयोजन किया। कुश्ती में उस पहलवान ने भी हिस्सा लिया। राजा ने अपने एक पहलवान ‘प्रवेश परीक्षा’ को उस पहलवान के मुक़ाबले में उतारा। युवा [...]

    0 0

    मित्रों, अगर मैं कहूं कि धर्म दुनिया का सबसे जटिल विषय है तो यह कदापि अतिशयोक्ति नहीं होगी. विडंबना यह है कि कई बार जब कोई धर्म अपने मूल स्वरुप में सर्वकल्याणकारी हो तो उसमें स्वार्थवश इतने अवांछित परिवर्तन कर दिए जाते हैं कि वह घृणित हो जाता है तो वहीँ दूसरी ओर कोई धर्म [...]

    0 0

    तन कोमल मन सुन्दर, हैं बच्चे बड़ों से बेहतर इनमें छूत और छात नहीं, झूठी जात और पात नहीं भाषा की तक़रार नहीं, मज़हब की दीवार नहीं इनकी नज़रों में एक हैं, मन्दिर मस्जिद गुरुद्वारे बच्चे मन के सच्चे सारी जग के आँख के तारे ये वो नन्हे फूल हैं जो भगवान को लगते प्यारे मासूम बच्चों के बारे में साहिर [...]